Category Archives: विमल मित्र

कर्म

मनुष्‍य अपना कार्य किस तरह करता है उसी के आधार पर उसका मूल्‍यांकन होता है। — विमल मित्र