Category Archives: ब्‍लोगर्स

अस्पताल

अस्पताल

क्या अजब जगह है

बिखरी पड़ी है

वेदना दुःख दर्द 

जीवन मृत्यु के प्रश्न

इसी अस्पताल के 

किसी वार्ड के बिस्तर पर

तड़फती रहती है 

जिजीविषा

दवाइयों 

और सिरंज में 

ढूंढती रहती है जीवन

समीप के बिस्तर से 

गुम होती साँसों को देख

सोचती है 

जिजिबिषा 

कल का सूरज 

कैसा होगा …….

लाटरीयां कैसी कैसी

अकसर लोग कहा करते है कि अन्‍तरजाल पर आपको अच्‍छी और बुरी हर प्रकार की सामग्री मिल जाती है। यह व्‍यक्ति विशेष पर है कि वह किसका उपयोग कैसे करता है। अन्‍तरजाल पर ठग भी भरे पड़े है । जब भी अपना मेल बाक्‍स खोलता हूं तो विशेष छूट और लाटरी की मेल देखने को मिलती थी । आरम्‍भ में ये सभी मेल पत्र स्‍वरूप में होती थी। लेकिन अब ठगों ने प्रमाण पत्र भेजने शुरू कर दिये है । लेकिन मेल के मसौदे में अन्‍तर कुछ भी नहीं होता। मेल में रूपये भेजने की बात पहले भी होती थी अब भी होती है। फर्क मात्र इतना है कि लाटरी की सूचना प्रमाण पत्रों के साथ सूचित की जाती है साथ ही एक तस्‍वीर लगा राजनायिक परिचय पत्र । अगर आप मेल में बताई गई वेब साईट पर जाते है तो वह होती ही नहीं है। अब इन ठगों ने भारतीय कम्‍पनीयों के नामों का सहारा लेना भी आरम्‍भ कर दिया है। या हो सकता है कि वे भारतीय ठग हो। खैर मेल तो आती रहेगी। भारी भरकम राशि का लालच भी होगा और साथ ही प्रमाण पत्र भी। चलो इस बहाने  इन प्रमाण पत्रों को देख कर खुश हो जाया करेंगे। अपने मित्रों के लिए इन सभी के वेब शाटस दे रहा हूं । रूपया तो मिलने से रहा। आप बधाई तो देगे ही। 

श्री खण्‍ड यात्रा की तस्‍वीरें

मेरे मित्र रमेश चौहान गत दिन श्रीखण्‍ड यात्रा पर गए और लौट कर उन्‍होने तस्‍वीरें दी मित्रों के लिए तस्‍वीरें यहां प्रस्‍तुत है

राष्‍ट्रगान

राष्‍ट्रगान जन गण मन को सविंधान सभा ने 24 जनवरी 1950 को राष्‍ट्रगान के रूप में स्‍वीकार किया था। गुरूदेव रवींन्‍द्र नाथ टैगोर द्वारा लिखित यह गीत सबसे पहले 27 दिसम्‍बर 1911 को कलकता में हुए भारतीय राष्‍ट्रीय कांग्रेस के अधिवेशन में गाया गया था। इसमें पांच अंतरे है इसका पहला अंतरा राष्‍ट्रगान के रूप में गाया जाता है।
राष्‍ट्रगान का गायन समय 52 सैकंड है विशेष अवसरों पर शुरू और अंत की पंक्तियों को भी लघु राष्‍ट्रगान के रूप में गाया जाता है जिसका समय 20 सैकंड होता है। जब कहीं राष्‍ट्रगान गाया जा रहा हो तो प्रत्‍येक भारतीय नागरिक का कर्तव्‍य है कि वह सावधान की अवस्‍था में खड़े हो कर राष्‍ट्रगान को पूर्ण सम्‍मान दे।