Category Archives: प्रेमचन्‍द

पहलू

जीवन की दुर्घटनाओं में अक्‍सर बड़े महत्‍व के नैतिक पहलू छिपे हुए होते है। — प्रेमचन्‍द
Advertisements

वाद विवाद

कोई वाद विवाद जए विवाद का रूप धारण कर लेता है तो वह अपने लक्ष्‍य से दूर हो जाता है । — प्रेमचन्‍द

नमस्‍कार

नमस्‍कार करने वाला व्‍याक्ति विनम्रता को ग्रहण करता है और समाज में सभी के प्रेम का पात्र बन जाता है। —प्रेमचन्‍द