Category Archives: गौतम बुद्ध

मद्य

सुरा- मेरय मज्‍ज पमादष्‍ठाना बरमणी सिक्‍खापदं समादियामि

शराब मद्य तथा अन्‍य नशीले पदार्थों का सेवन मानव के पास ज्ञान विवेक को फटकने नहीं देता। —

प्रेम

मनुष्‍य क्रोध को प्रेम से , पाप को सदाचार से, लोभ को दान से और झूठ को सत्‍य से जीत सकता है। —गौतम बुद्ध