Category Archives: काका कालेलकर

संयम

संयम से ही मनुष्‍य की अनुभव शक्ति बढ़ती है और हर तरह का सामर्थ्‍य बढ़ता है। — काका कालेलकर