मन

मन ही मनुष्‍य के बंधन और मोक्ष का कारण है। विषयासक्‍त मन बंधन के लिए है और निर्विषय मन मुक्‍त हो जाता है। — ब्रहबिंदु उपनिष्‍द

1 thought on “मन

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s