सीख

परम बाबा देवरहा,विरक्त संत थे। वृंदावन में यमुना तट पर बने मचान में वह साधना में लीन रहते थे। अपने दर्शनार्थियों को बाबा हमेशा सदाचार का पालन करने, अपने कर्तव्यों को धर्म मानने और हर क्षण भगवान को याद रखने की प्रेरणा दिया करते थे। एक बार इलाहाबाद से कुछ भकतजन वृंदावन आए। वे बाबा के पूर्व परिचित थे, इसलिए बाबा के दर्शन के लिए पहुंचे। देवरहा बाबा ने पूछा बच्चा, प्रतिदिन भगवान की पूजा उनके नाम का जाप तो पूर्ववत चल रहा है न।  उनमें से एक ने कहा बाबा, हम पहले भगवान की पूजा करते थे। पर अब हमने एक संत को गुरु बना लिया है। उन्होंने कहा कि इतने वर्षों तक पूजा करने के बाद भी भगवान के दर्शन नहीं कर पाए। इसलिए अब हमारे दर्शन कर समझ लो कि ईश्वर के दर्शन कर रहे हो। मेरे नाम का जप करो। उनके आदेश से ही हमने रामकृष्ण की पूजा छोड़ दी है। अब उन्हीं के नाम का कीर्तन करते  हैं। यह सुनकर देवरहा बाबा बोले बेटा, तुम कलियुग के प्रभाव में गए हो। स्वयंभू अवतार के झांसे में आकर भटक गए हो। जो संत भगवान की पूजा छुड़वाकर अपनी पूजा कराता है और अपने नाम का मंत्र देता है, वह भगवान तो छोड़ो, संत भी नहीं है। सच्चा संत वही है, जो अपने को तुच्छ समझता है। भगवान के भजन का तरीका बताता है।’ बाबा देवरहा  के वचन सुनकर उनकी आंखें खुल गईं। और उन्होंनेऊं नमो भगवते वासुदेवायमंत्र का जाप करने का संकल्प ले लिया। 
This entry was posted in प्रेरक प्रसंग on by .

About रौशन जसवाल विक्षिप्‍त

अपने बारे में कुछ भी खास नहीं है बस आम और साधारण ही है! साहित्य में रुचि है! पढ लेता हूं कभी कभार लिख लेता हूं ! कभी प्रकाशनार्थ भेज भी देता हूं! वैसे 1986से यदाकदा प्रकाशित हो रहा हूं! छिट पुट संकलित और पुरुस्कृत भी हुआ हूं! आकाशवाणी शिमला और दूरदर्शन शिमला से नैमितिक सम्बंध रहा है! सम्‍प्रति : अध्‍यापन

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s