हबीब तनवीर का जाना

हबीब तनवीर का जाना एक युग का जाना है ! हबीब हर रोज़ पैदा नहीं होते ! हबीब शताब्दियों में एक बार पैदा होते है ! तनवीर साहाब का शिमला से भी प्रगाढ़ प्रेम था !शिमला. नाटक के जनक हबीब तनवीर की कला का शिमला गेयटी थियेतर भी गवाह रहा है। छत्तीसगढ़ से पूरी टीम को साथ लेकर आए हबीब ने 1987 में मशहूर नाटक ‘चरण दास चोर’ का गेयटी थियेटर में मंचन किया था। रंगमंच के अर्श पर हमेशा चमकते रहे इस क़लाकार ने पहाड़ में भी अपने अभिनय की अमिट छाप छोड़ी। नाटक ‘चरण दास चोर’ की टीम एक बार अपने लीडर के बिना भी शिमला आई थी। शिमला के रंगकर्मी कहते हैं कि हबीब तनवीर हिल्स क्वीन में एक बार तो नाटक के मंचन के लिए आए थे, इसके बाद राष्ट्रीय नाटक अकादमी के अध्यक्ष देवराज अंकुर के बुलावे पर भी शिमला आए थे।उस समय हबीब के नाटक ‘आगरा बाजार’ का कालीबाड़ी हाल में मंचन किया गया था। उन्होंने बताया कि वह शिमला की खूबसूरती के कायल थे और यहां आने का कोई मौका नहीं छोड़ते थे। उस जमाने में कला के क्षेत्र में कदम रखने वाले रंगकर्मी बीते दिनों को याद करते हुए कहते हैं कि ‘वो भारी भरकम आवाज मंच के हर पल को जीवंत करती थी’।

शिमला की नाट्य संस्था कला किरण ने तनवीर साहब को श्रधान्जली देने के लिए प्रेम चंद की कहानी बढे भाई साहब का मंचन किया यह मंचन शिमला स्तिथ केन्द्रीय आलू अनुसन्धान बेम्लोई में किया गया !
This entry was posted in शिक्षा on by .

About रौशन जसवाल विक्षिप्‍त

अपने बारे में कुछ भी खास नहीं है बस आम और साधारण ही है! साहित्य में रुचि है! पढ लेता हूं कभी कभार लिख लेता हूं ! कभी प्रकाशनार्थ भेज भी देता हूं! वैसे 1986से यदाकदा प्रकाशित हो रहा हूं! छिट पुट संकलित और पुरुस्कृत भी हुआ हूं! आकाशवाणी शिमला और दूरदर्शन शिमला से नैमितिक सम्बंध रहा है! सम्‍प्रति : अध्‍यापन

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s