बात पते की

महात्मा जिलानी बहुत बढे विद्वान् थे ! उनके प्रवचन सुनने दूर दूर से लोग आते थे ! एक दिन नगर के राजा ने उनसे कहा,” महात्मन मैं चाहता हूँ की आप जनहित में निति का ऐसे ग्रथ की रचना करें जिससे राज्य में नेतिक वातावरण का निर्माण हो सके ! महात्मा ने राजा की बात मन ली ! राजा ने जिलानी को सभी सुविधाएँ प्रदान की ! जिलानी औए उनके शिष्य ग्रन्थ का का देखने लगे ! जिलानी का हर कार्य अनुकर्णीय था ! एक दिन उन सभी ने आपस में बातचीत की और उनका एक शिष्य बोला की क्या तुमने गुरूजी का चमत्कारी दीपक देखा है ? जब वे काम करतें है तो उसी दीपक को जलाते है ! परन्तु जब वे कोई दूसरा काम करते है तो वे दूसरा दीपक जलाते है ! अधिक जानकारी के लिए सभी शिष्य जिलानीजी के पास पहुंचे और इस बारे में जानना चाहा ! जिलानी जी ने उनकी जिज्ञासा को शांत करते हुए कहा की जब मैं राजा कम काम करता हूँ तो उनके द्वारा दिया गया दीपक ही जलाता हूँ ! परन्तु जब मैं अपना काम करता हूँ तो व्यक्तिगत दीपक कम इस्तेमाल करता हूँ ! जिलानिजी ने शिष्यों को समझाते हुए कहा की राज्य के संसाधनों का उपयोग राज्य के काम के लिए ही होना चाहिए और अपने कामों के लिए अपने साधनों का ही प्रयोग होना चाहिए ! अगर सभी नागरिक अपने अपने कर्तव्य जाने तो राज्य का विकास अपने आप ही हो जाएगा !

This entry was posted in धर्म आस्‍था on by .

About रौशन जसवाल विक्षिप्‍त

अपने बारे में कुछ भी खास नहीं है बस आम और साधारण ही है! साहित्य में रुचि है! पढ लेता हूं कभी कभार लिख लेता हूं ! कभी प्रकाशनार्थ भेज भी देता हूं! वैसे 1986से यदाकदा प्रकाशित हो रहा हूं! छिट पुट संकलित और पुरुस्कृत भी हुआ हूं! आकाशवाणी शिमला और दूरदर्शन शिमला से नैमितिक सम्बंध रहा है! सम्‍प्रति : अध्‍यापन

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s