इन्टरनेट

आज सुचना तन्त्र में इतना विकास हो गया है की मनुष्य इन्टरनेट के माध्यम से समीप आ गया है ! अंग्रेजी के अलावा देश की दूसरी भाषाओँ में भी अपने विचार व्यक्त किये जा सकतें है ! आवश्यकता है इमानदारी से प्रयास करने की ! इन्टरनेट के माध्यम से अपने बोधिक स्तर में भी विकास किया जा सकता है ! हिंदी ब्लोग्स में इतना कार्य हो रहा है की वो सब जानकारी हमारी अभिरुचि को निखार सकती है ! जब इतना सब है तो क्या हम हिंदी के उत्थान के लिए दो कदम आगे नहीं बड़ा सकते ?

This entry was posted in विज्ञान on by .

About रौशन जसवाल विक्षिप्‍त

अपने बारे में कुछ भी खास नहीं है बस आम और साधारण ही है! साहित्य में रुचि है! पढ लेता हूं कभी कभार लिख लेता हूं ! कभी प्रकाशनार्थ भेज भी देता हूं! वैसे 1986से यदाकदा प्रकाशित हो रहा हूं! छिट पुट संकलित और पुरुस्कृत भी हुआ हूं! आकाशवाणी शिमला और दूरदर्शन शिमला से नैमितिक सम्बंध रहा है! सम्‍प्रति : अध्‍यापन

5 thoughts on “इन्टरनेट

  1. सांगरी दर्पण

    लगभग छ महीने पहले प्रयोग के रूप में शुरू किये गए पाठशाला के ब्लॉग को आगे बढाते समय बहुत से ब्लोग्स को देखने का मोका मिला तो पाया की ब्लॉग पर बहुत काम रहा है ! इस दोरान हिंदी और अंग्रेजी ब्लोग्स को देखने का मोका मिला और ढेर सारी जानकारी प्राप्त की ! ब्लोग्स के माध्यम से हम गतिविधियों से जुड़े तो रहते ही है साथ ही ढेरों सारी जानकारी भी मिलती है !इस माध्यम से विचारो का आदान प्रदान भी संभव हो पता है !ब्लॉग बनाने की प्रेरणा मुझे हि० प्र० लेक्चर्स संघ के ब्लॉग एचपीएसएलएया से मिली और हमने पाठशाला का ब्लॉग बना कर एक प्रयोग किया ! हम अपने पाठको से आग्रह करते है की ब्लॉग देखते हुए अपना सुझाव दें !कमेन्ट पर क्लिक करे और लिख दीजिये दो चार शब्द सुझाव और प्रेरणा के !

    पसंद करें

  2. Strider

    Your ideas are truly welcome Mr. Roshan. I can not write hindi well on blogs. But I am going to learn to do that. Internet will come as a boon to Indian Masses only if they can read and understand it in a language they can understand. Feel free to visit our forum here.. http://forum.kollace.com We are also developing an online virtual campus at zero cost for students and teachers. I hail from a small village in Mandi, Himachal Pradesh. Would like to know more about your ideas and thoughts..

    पसंद करें

  3. hitesh rawat

    puri tarah se sahmat hu appki baat se…… par har blogger ke pass apne kaaran hai bloggging karne ke…..koi Hindi ko badhawa dene ke liye kar raha hai……toh koi bas…waqt bitane ke liye……

    aur kuch mere jaise toh blogging paiso ke liye karte hai…..mujhe yeh kahte hua accha toh nahi lagta….

    jaha tak baat hui hindi ki……mujhe lagta hai…zayadatar blogger hindi mein issi liye nahi blog karte ….kyu ki woh bhi…..globalization ka anand lena chahte hai……..

    पसंद करें

  4. brandMARIO

    namaste… meri hindi itni achchi nahin hain lekin koshish kartha hoon 🙂

    aapki ek help chahiye thi… mein indiblogger me ek contest me bhaag le raha hoon aur aapki vote ki bohut zaroorat hain..
    krupya post padkar zaroor vote karein…

    http://www.indiblogger.in/indipost.php?post=30610

    bahut bahut dhanyavaad… bahut mehebaani hogi…

    पसंद करें

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s